via

Advertisements

From: Shailesh P Mehta mehtasp25@gmail.com

+1 312 608 9836;

+91 94084 91925

August 01, 2018.

Berkeley CA/USA

What People of Bhaarat are looking for from the elected MPs after 2019 Election:

Greetings,

Lord Macaulay made minor change in Bhaartiya education system that effectively made the entire Bhaartiya population mentally slave of Britain.

Bahadurshah Zafar rightly quoted then : लम्हों में गुनाह कीये हैं .. सदीयों में सझा पायेंगे..

Pendulum is swing now in opposite direction in democratic Bhaarat, after people voted in last election to defeat Ruling coalition .

Election is now on horizon again in early 2019 Aprox. 6 months away.

“What small correction can bring ‘sea-change’ to reverse the on-going slavery trend post independence/the year 1947 ?? “

My pleasure to share some thoughts on the subject, primarily to move away from present & defeating व्यवसाय लक्षी style living to gain everlasting जीवन-लक्षी ideology, to get back the cultural esteem enjoyed by Bhaartiya for several Milliniya..

People of Bhaarat are fed-up of the party politics. The candidate nominated by the party can or may remain faithful or committed to the party BUT can never be committed to voters, on the strength of whom he/she gain the position of MP. The present operating system have failed. This need to be changed, with the following masterplan elements, that can put the nation on to the path of prosperity & help Bhaarat & Bhaartiya leaders in the Globe Arena Following changes are required:

On Constitution front:

1. The candidate need to be committed to the given promises to the voters preelection manifestos

2. Need to declare Nation as Bhaarat (Not India); following Sanatan Norms that is synonyms to constant laws of nature & thus be called Hindu Rastra.

3. Change the constitution for MPs & IAS/ICS to be called BAS/BCS staff serving interest of people of the nation (Not the constitution).

4. Remove special privileges provided to minority + Remove Article 370. From constitution.

5. By negotiations, Annex to Pakistan & Bangladesh as NON-Hindu states of Bhaarat, having same currency & laws. People of those states with special privilege of owning homes & business for non-Hindus. Anywhere else, they can’t vote or own 100% Business or homes. Everywhere else, the non-hindu sect to need 51% partnership with Hindu National

On economic front:

6. Shade two digits from the present Indian Rupee currency making 1 Rs = 100 Rs = US $ 0.66 ; 1 Gr. Of 999.99 Purity Gold = 3.2 Rupees.

7. Replace all Taxes by minimum 0.2 to maximum 02% transection tax + all transections conveniently via Bank only.

8. Print expiry date on each currency note/coin of 5 years. Such that currency accumulation & Inflation dies down

9. Print & inject the currency in to the banks-accounts of population of Bhaarat via employment for National Development Program (NDP), for 5 years each individual, between age 16 & 26 for more physical nature of work & for age 46 & 56 for responsible admin work @ new Rs 150 per month. (Such that effectively, every 4th person will be Govt. employee for at-lest 10 years in life & every home gets Government printed/minted/circulated Money. (As Money becomes available to everyone, bribing money to get work done from Government circuit becomes obsolete.)

10. Replace life time pension with 25 % of gross salary earned during working years, paid over 120 monthly after retirement.

11. Establish “High Quality in time’ + additional rewards for it” Goals set high, such that respect to quality is enhanced & blackmailing by non-payment of money dies down.

12. 3 generations must live under one roof.

13. Energy is made available at cost price without profiting to all.

14. Land is made available on lease owned agreement for 1 generation (25 years), extendable for next 1 generation (Next 25 years) @ fixed half yearly revenue such that cost of land gets eliminated for all developments. All the land belong to the Nation. No individual ownership.

15. Entrepreneurs to be encouraged & supported by the Government for international trade as modeled by China.

16. Pact with China to trade in Bhaartiya Rupee for all give & take

Education:

17. Present education system to be replaced with original Gurukul style education that enable ward to be able to cater the need of 10 persons by their Physical skill & ability

18. Governing or funding to education by society & get deregulated from Governmental say.

19. Preventive Health-care on the basis of Ayurveda to be part of education program. Allopathy to be discouraged.

Temple Management :

20. Temple management need to be set free from governmental control.

21. Make Temple responsible for funding & managing for regional education + Health care with the zonal competitions to excel. Administration of Nation:

22. The present state system to be replaced by 5 zones : N for North , E for East ,  S for South , W for West & C for Central. The division to be made to proportionate approximate equal population in each zone. Agriculture to take priority with modern technology to excel & maximize crops regulated for land & irrigation management effected round the year.

Fine tuning to the above as needed to be made to formulate the progressive Bhaarat to make it future forerunner of the developing globe.

Posted on FB on Jan 17, 2018.

સરકાર ખેડુતો ની ઉપેક્ષા કેમ કરી રહી છે તે સમજાતું નથી.. જો ખેડુત નહીં હોય તો કાલે રોટલે કેટલો અપ્રાપ્ય થશે.. કે મોંઘો થશે તેની જવાબદારી સરકાર લેશે ? મારુ ચાલે તો હું મંદિર માં ભેટ ની જગ્યાએ ખેડુતો ને બીયારણ નું દાન કરું.. .. વેળાસર ચોતી ને આપણી જવાબદારી નીભાવવાનો અવસર છે.. SP

Berkeley July 23, 2018.

ટીમ ‘ન મો’એ ખેડુતો ને લાગત કરતા દોઢો ભાવ આપવાનું નક્કી કર્યું છે તથા તે પૈસા વાર્ષિક બજેટ માથી ખરચવાની જરૂર નહી પડે.. તથા નજીક ના ભવિષ્ય મા ખેડુતોને લાગત કરતા બમણા પૈસા મળે તેવો આધાર ગોઠવાઇ રહ્યો છે … તેવા સમાચાર ઉપર સુચવેલી વ્યથા નું નિરાકરણ લાવી શકે તેવી આશા બંધાઇ રહી છે.

SP

Posted on FB on Feb 03, 2018.

Very interesting info, how systematically Christians via missionaries & ruler in power had attacked twisted Vedic knowledge to destroy Sanatan norms. Mr. Rajiv Malhotra is also doing commendable work in spreading the awareness to break myth being spreaded for it by missionaries.

Please read the following Msg posted as received via What’s App:

किस बला का नाम है “मूलनीवासी”??

आइये जाने ।

जब मै मूल निवासी शब्द बोलता हूँ तो इसका मतलब होता है originator means प्रारंभिक । मूलनीवासी शब्द को जानने से पहले हमे इसका इतिहास जानना होगा। आप में से कई लोगो ने bio पढ़ी होगी इतिहास पढ़ी होगी। उसमे हमे पढ़ाया जाता है की हमारे पूर्वज कोई आदिमानव थे जो पत्थर तोड़ते थे या मांस खाते etc etc. मतलब सभी लोग अगर बात करे तो ब्राह्मण छत्रिय वैश्य या शुद्र । ये तो रहा मानव का initiallization जिसे बृत्तिश इतिहासकार हमे कहते आ रहे। जब मै इतिहास की बात करता हूँ तो मै इनमें brittish संस्कृत विद्वानों में ओल्डन वर्ग (१८५४-१९२०), अलब्रेट वेबर (१८२५-१९०१), फ्रेडरिक रोजन (१८०५-१८३७), अलफ्रेड लुडविग (१८३२-१९१२), जार्ज बुहलर (१८३७-१८९८), ज्युलियस जौली (१८४९-१९३२), ओटोवॉन बोथलिंगम (१८१५-१९०४), मौरिस विंटरनिट्स (१८६३-१९३७), अर्नेस्ट कुहन (१८४६-१९२०) आदि थे। तीसरे वर्ग में ब्रिटेन में एच.एच. विल्सन (१७८६-१८६०), फ्रेडरिक मैक्समूलर (१८२३-१९००), मौनियर विलियम्स, अर्थन ऐंथोनी मैक्डोनल (१८५४-१९३०, ए.बी. कीथ (१८७९-१९४४) आदि थे। भारत में प्रशासन से जुड़े विद्वानों में चार्ल्स विलसन, विलियम जोन्स (१७४६-१७९४), कॉलब्रुक (१७६५-१८३६), स्टीवेंसन, ग्रिफिथ आदि मुखय थे मतलब एक वर्ग अंग्रेज़ो का दूसरा वर्ग डी डी कौशाम्बी,राम विलास शर्मा,रोमिला थापर ,कुलदीप नैयर ,बिपिन चंद्र विपिन ,इरफान हबीब,रामशरण शर्मा,सतीश चंद्रा,सुमित सरकार,डी. एन. झाजैसे वाम्पथी इतिहास्कार है। British इतिहासकारो ने लगभग missonary वर्ग से जुड़े इतिहासकार रहे जिन्होंने 200 साल तक इतिहास लिखा बाद में वामपंथी ‘THE MYTH OF THE HOLY COW’ में डी. एन. झा ने लिखा कि ‘वैदिक जमाने में हिन्दू गाय का मांस खाते थे।’ यह किस तरह का शोध है ? ये आप विचार कर सकते है ।

फिर उन्ही के समकालीन कुछ राष्टवादी लेखक पी एन. ओक,सावरकर,दयानंद स्वामी,लाजपत रॉय,एनी बेसेंट ,डेविड फ़्रॉली etc etc ने लिखी ।

अंग्रेजो का लेखन हिंदुस्तान में आने के बाद ही शुरू होता है , जो की 1835 में missonry कान्वेंट स्कूल से शुरू होता। पहले 1835 में maculay बाद में हंटर ने शिक्षा के लिए आयोग लाया। ध्यान रहे इनका एक ही लछ्य था की कैसे हिंदुस्तान कोई इसाई यत्व में जकड़ा जाये । परिणामस्वरूप यहाँ कॉलेज खोले गए और १७८४ में कलकत्ते में ‘एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल’ की स्थापना की गई। चार्ल्स बिल्किन्स पहला अंग्रेज अधिकारी था जिसने बनारस में संस्कृत भाषा सीखी और १७८५ में श्री मद्भागवद् गीता, १७८७ में हितोपदेश और १७९५ में महाभारत के शाकुन्तलोपखयान का अंग्रेजी में अनुवाद प्रकाशित किया। जब १७६३ में विलियम जोन्स को ब्रिटिश सेटिलमेंट का मुखय न्यायाधीश नियुक्त किया गया तो उसने संस्कृत सीखी और १७८९ में महाकवि कालीदास के अभिज्ञानशाकुन्तलम् और १७९४ में मनुस्मृति का अंग्रेजी में अनुवाद किया। इसी समय (१८०२) दाराशिकोह के फारसी में, उपनिषदों का फ्रेंच लेखक एन्क्वेरिल डू पेरोन (१७२१-१८०५) द्वारा किया गया लेटिन अनुवाद प्रकाशित हुआ। इन साहित्यिक और दार्शनिक ग्रंथों ने यूरोप और विशेषकर जर्मनी में, संस्कृत भाषा और साहित्य के प्रति अभूतपूर्व जागृति एवं जिज्ञासा पैदा कर दी।

आगस्त विलहेम श्लेगल, (बोन यूनीवर्सिटी) जर्मनी, में पहला संस्कृत प्रोफेसर नियुक्त हुआ और उसका छोटा भाई फ्रेडरिक श्लेगल दोनों ही भारतीय दर्शन व साहित्य के अनन्य प्रशंसक थे। एक दूसरे जर्मन संस्कृत विद्वान विल्हेम हम्बोल्ड और ऑगस्ट श्लेगल ने मिलकर भगवद् गीता का जर्मन में भाष्य प्रकाशित किया।

वह भारत में मेडीकल प्रोफेशन के एक सदस्य के रूप में, १८०८ में आया तथा १८३२ तक यहाँ रहा। भारत निवास के इस काल में उसने संस्कृत भाषा सीखी, इस आशा और उद्देश्य से कि शायदयह भाषा ज्ञान उसे हिन्दू धर्म शास्त्रों को समझने और आवश्यकता होने पर विकृत आर्थ करने और भारतीयों को ईसाईयत में धर्मान्तरित करने में सहायक हो सके। इस संस्कृत ज्ञान के आधार पर ही विलसन को, १८३२ में,

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में संस्कृत की बोडेन चेयर का प्रथम अधिष्ठाता बनाया गया। यहाँ उसने सबसे पहले मिशनरियों के लिए दी रिलीजन एण्ड फिलोसोफिकल सिस्टम ऑफ दी हिन्दूज नामक पुस्तक लिखी। इस पुस्तके के लिखने के उद्देश्य के विषय में उसने कहाः

“These lectures were written to help candidates for a prize of £ 200/= given by John Muir, a well known Haileybury (where candidates were prepared for Indian Civil Services) man and great Sanskrit scholar, for the best refutation of the Hindu Religious Systems.” (Bharti, p.9)

अर्थात् यह लेखमाला उन व्यक्तियों की सहायता के लिए लिखी गई हैं जो कि म्यू द्वारा स्थापित दो सौं पौंड के पुरस्कार के लिए प्रत्याशी हों और जो हिन्दू धर्म ग्रन्थों का सर्वोत्तम प्रकार से खंडन कर सकें। (भारती, पृ. ९)

१८६० में, प्रो॰ विलसन के निधन के बाद, बोडेन चेयर का दूसरा अधिष्ठाता मौनियर विलियम्स हुआ। १८१९ में बम्बई में जन्मा मौनियर एक कट्टर ईसाई था। यह हिन्दू धर्म को नष्ट करने को और भी अधिक वचनबद्ध था जैसाकि उसने

अपनी पुस्तक दी स्टडी ऑफ संस्कृत इन रिलेशन टू मिशनरी वर्क इन इंडिया (१८६१) इसमें उसने एक मिशनरी की तरह स्पष्ट कहाः

“When the walls of the mighty fortress of Hinduism are encircled, undermined and finally stormed by the soldiers of the Cross, the victory to Christianity must be signal and complete.” (p.262)

अर्थात् जब हिन्दू धर्म के मजबूत किलों की दीवारों को घेरा जाएगा, उन पर सुरंगे बिछाई जाऐंगी और अंत में ईसामसीह के सैनिकों द्वारा उन पर धावा बोला जाएगा तो ईसाईयत की विजय अन्तिम और पूरी तरह होगी (वही पृ. २६२)

मैकॉले कहता था की ईसाइयत की बीज बोन के लिए हमे पहले हिन्दुइस्म को खूब जोतना होगा। जैसे एक किसान अपनी खेत में कुछ भी नई फसल लगाने से पहले जोतता है ।

इस तरह भारत में आया “the aaryan invasion theory ,1835” जिसे हिंदी में कहते है “आर्य आगमन सिद्धांत ” जिसमे अंग्रेजो विद्वानों न ईसाईे मिशनरी भावना से प्रेरित होकर वैदिक देवतावाद का तुलनात्मक गाथावाद, विकासवाद और मानवइतिहास की दृष्टि से पक्षपातपूर्ण अनुवाद कर विशाल साहित्य लिखा। इस सिद्धान्त को बताने वाला मैक्समूलेर था जो उस समय ईस्ट इंडिया कंपनी में काम करता था।

आप किसी भी वाम्पथी इतिहास की बुक उठा लेना वह इन्हें अवस्य कोट करते है ।

ईसाई लेखक हॉवेल Havell, E. B. (1915). The Ancient and Medieval Architecture of India: a study of Indo-Aryan civilisation में यहाँ तक तो इस स्तर तक लिखता है की

“विष्णु एक पूज्य वीर था क्षत्रयो का गुरु और आर्य जाती को शिक्षा देने के लिए समय समय पर अवतार धारण करने वाला और उन्हें एनी जातियो पर विजय दिलाने वाला था। (आर्यन रूल इन इंडिया पृष्ठ 32)

अब जरा कोई विचार कर की क्या ये बात वैज्ञानिक है , अगर ऐसा ही था तो अब क्यों नही जन्म लेता ?? और अगर ऐसी बाते सत्य है तो वो बहूत ही आस्चर्य जनक बात या यु कहे की अलौकिक बात है । क्या ऐसी भी बाते हो सकती है । तो आप समझ सकते है की इतिहास इस स्तर पे लिखी गई है ।

फिर बाद में वामपंथी इतिहासकार रमेश चन्द मजूमदार ने आउट ऑफ़ लाइन एंशिएंट इंडियन हिस्ट्री में ,एम् सी दास ने ऋग्वेद इंडिया फिर अंग्रेजो के सबसे चहेते नेहरू ने डिस्कोवरी ऑफ़ इंडिया में उन्ही को कोट किया।

लेकिन रास्ट्रवादी लेखको ने हमेशा इनका प्रतिकार किया है उनमे सबसे अग्रगामी 1824 में जन्मे पूज्य श्री दयानद स्वामी जी है । जिन्होंने सत्यार्थ प्रकाश में सबसे पहले मैक्स मूलर का खंडन और सत्य का मंडन किया । बाद में अन्य आर्य समाजी लेखको ने कई पुस्तके भी लिखी ।

जो जब मै आर्य शब्द की बात करता हूँ तो ये महाभारत और रामायण में वाल्मीक और व्यास रचित ग्रंथो में पांडव…राम और कृष्ण जैसे महापुरुषो को कहा गया है । जरा विचार करिये की अंग्रेजो ने किस तरह हमारे महापुरुषो को विदेशी ,लड़ाकू इत्यादि बिना किसी प्रमाण और तथ्यों के साबित कर दिया।

आर्य शब्द श्रेष्ठता का शब्द है जो की मात्र एक विशेषण था। व्यास के रामायण में अनार्य शब्द का उपयोग कैकेई के लिए भी हुआ है जब उन्होंने राम को वन भेजा।इसी तरह वेदों के एक मन्त्र में उपदेश करते हुए कहा है ” कृण्वन्तो विश्वार्यम ” अर्थात सम्पूर्ण विश्व को आर्य बनाओ यहाँ आर्य शब्द श्रेष्ट के अर्थ में लिया गया है यदि आर्य कोई जाति या नस्ल विशेष होती तो सम्पूर्ण विश्व को आर्य बनाओ ये उपदेश नही होता | जबकि स्वयम अम्बेडकर ने “शुद्र कौन थे” नाम की अपनी पुस्तक में आर्यों के विदेशी होने का प्रबल खंडन किया है |विश्वविख्यात एलफिन्सटन अपनी पुस्तक ” elphinston:history of india vol1 “में लिखते है “न मनुस्मृति में न वेदों में आर्यों के बाहर से आने का कोई वर्णन प्राप्त नही होता है | भारत में ऋग्वेद का प्रथम विदेशी अनुवादक इसी तरह life and letter of में भी maxmullar का एक पत्र मिलता है जिसको उसने १८६६ में अपनी पत्नि को लिखा था पत्र निम्न प्रकार है –अर्थात मुझे आशा है कि मै यह कार्य सम्पूर्ण करूंगा और मुझे पूर्ण विश्वास है ,यद्यपि मै उसे देखने को जीवित न रहूँगा, तथापि मेरा यह संस्करण वेद का आध्न्त अनुवाद बहुत हद तक भारत के भाग्य पर और उस देश की लाखो आत्माओ के विकास पर प्रभाव डालेगा | वेद इनके धर्म का मूल है और मुझे विश्वास है कि इनको यह दिखना कि वह मूल क्या है -उस धर्म को नष्ट करने का एक मात्र उपाय है ,जो गत ३००० वर्षो से उससे (वेद ) उत्त्पन्न हुआ है |

इसी तरह एक और दितीय पत्र मेक्समुलर ने १६ दि. १८६८ को भारत के तत्कालीन मंत्री ड्यूक ऑफ़ आर्गायल को लिखा था –

” the ancient religion of india is doomed , if christianity does not step in , whose fault will it be ?

अर्थात भारत के प्राचीन धर्म का पतन हो गया है , यदि अब भी इसाई धर्म नही प्रचलित होता है तो इसमें किसका दोष है ?

इन सबसे विदेशियों का उद्देश हम समझ सकते है | मैक्समूलेर ने किस तरह इतिहास में विकृतिकरण किया उसका पूरा इतिहास यहाँ इस लिंक में पढ सकते है ।

http://www.hinduwritersforum.org/hamare-prakasan/maiksmulara-dvara-vedom-ka-vikrtikarana—kya-kyom-aura-kaise

” रामायण बालकाण्ड में आर्य शब्द आया है – • श्री राम के उत्तम गुणों का वर्णन करते हुए वाल्मीकि रामायण में नारद मुनि ने कहा है – आर्य: सर्वसमश्चायमं, सोमवत् प्रियदर्शन: | (रामायण बालकाण्ड १/१६) अर्थात् श्री राम आर्य – धर्मात्मा, सदाचारी, सबको समान दृष्टि से देखने वाले और चंद्र की तरह प्रिय दर्शन वाले थे “

” किष्किन्धा काण्ड १९/२७ में बालि की स्त्री पति के वध हो जाने पर उसे आर्य पुत्र कह कर रुधन करती है |”

बौद्धों के विवेक विलास में आर्य शब्द -” बौधानाम सुगतो देवो विश्वम च क्षणभंगुरमार्य सत्वाख्या यावरुव चतुष्यमिद क्रमात |”

” बुद्ध वग्ग में अपने उपदेशो को बुद्ध ने चार आर्य सत्य नाम से प्रकाशित किया है -चत्वारि आरिय सच्चानि (अ.१४ ) “

धम्मपद अध्याय ६ वाक्य ७९/६/४ में आया है जो आर्यों के कहे मार्ग पर चलता है वो पंडित है |

जैन ग्रन्थ रत्नसार भाग १ पृष्ठ १ में जैनों के गुरुमंत्र में आर्य शब्द का प्रयोग हुआ है – णमो अरिहन्ताण णमो सिद्धाण णमो आयरियाण णमो उवज्झाणाम णमो लोए सब्ब साहूणम “यहा आर्यों को नमस्कार किया है अर्थात सभी श्रेष्ट को नमस्कार

• जैन धर्म को आर्य धर्म भी कहा जाता है | [पृष्ठ xvi, पुस्तक : समणसुत्तं (जैनधर्मसार)]

मनु स्मृति में आया है कि – शनकैस्तु क्रियालोपादिमा: क्षत्रियजातय:। वृषलत्वं गता लोके ब्रह्माणादर्शनेन्॥10:43॥ – निश्चय करके यह क्षत्रिय जातिया अपने कर्मो के त्याग से ओर यज्ञ ,अध्यापन,तथा संस्कारादि के निमित्त ब्राह्मणो के न मिलने के कारण शुद्रत्व को प्राप्त हो गयी। ” पौण्ड्र्काश्र्चौड्रद्रविडा: काम्बोजा यवना: शका:। पारदा: पहल्वाश्र्चीना: किरात: दरदा: खशा:॥10:44॥ पौण्ड्रक,द्रविड, काम्बोज,यवन, चीनी, किरात.

Posted on FB on March 20, 2018.

STOP TREADING WATER..

Life & natural elements are gift of God.. Free of money cost. At Globle level, there need to be resolution to prevent its trading. Especially at least Birth, Water & Air.. neededto be maintain Meney Cost Free. Or it will cause revolution against Capitalism & Democracy.

Remembering days when during train journey from Mumbai to Amdavaad, in between on stations, young boys/girls use to provide drinking water in 5 & 10 paisa fro glass to 2-3 glasses to individual.. that is replaced with pollution generating pouch or 1 liter bottle costing labelled Rs. 19/-.. imagine in next 10 years, it can cost from Rs 100 to 500/- … There is no justification for its cost .. It being natural , be money cost free to all living kind.. please do think about it.. SP

Posted on FB on May 17, 2014

मई १७, २०१४

शिकागो

स्वागत..

सभी भारतीयों को नए सूर्योदय की बधाई ..

१८५७ का स्वतंत्र भारत का जो सपना था.. साकार होने जा रहा है..

सन २०१४ की १७ मै का सूर्यौदय ये सन्देश लाया है..

ये :

— सेक्युलर ‘इंडिया’ से हिंदू “भारत” का उदय है..

— सनातन/वैदिक सांस्कृतिक धरोहर का उदय है..

— सत्य व् आत्मगौरव का उदय है..

— नयी भगवा पताका का उदय हैं जो हमारी सांस्कृतिक पहेचान है..

— नए राष्ट्र गान “वंदे मातरम” का उदय हैं जो भारत भूमि माँ को समर्पित हैं (किसी नायक/अधि-नायक का जय-गान नहीं है)

— वैदिक ज्ञान/विचारों पर आधारित नए संविधान का उदय है..

— कंस/दुर्योधन/अधर्म के मरने के बाद की परिस्थिति जहां प्रकृतिक जीवन संहिता , श्रध्धा-विश्वास उत्कृष्ट कला/कार्य-कुशलता का उदय है..

— छोटों को प्यार व् बडों को आदर सम्मान का उदय है..

— पैसों की विषैली ताकात से ऊपर सनातन जीवन का उदय हैं..

— सबसे उपर जूठ के उपर सत्य का उदय है…

— भगवत-पुराण की प्रथम पंक्ति “सत्यम परं धीमहि” का पुनः उदय है ..

अब से सरकार तों अपना काम करेंगी ही.. किंतु हमने:

— अपना कर्तव्य/धर्म निर्भित हो, निभाना है..

— अपने परिवार की रक्षा/पोषण उचित करना है..

–जूठ नहीं बोलना है.. तथा हर हालतमे घूंस लेना/देना बंध करना है..

— स्वार्थ को छोड, मोक्ष-आर्थी बनना है..

ये लक्ष शुद्ध ता से जीना है..

आज के अवसर/आनंद व् भारत माता की जय..

अस्तु,

शैलेष महेता.

+१ ३१२ ६०८ ९८३६

Posted on FB on May 17, 2018

Interesting—> From What’s App source:

An excellent retort to a question so called liberals and seculars commonly ask:

Q: Who gave BJP/RSS the right to represent Hindus in India……

Answered by Neil Mezi on quora:

Not that I am any RSS fan,

But who gave you the right to steal and claim all of India’s freedom struggle as gift/charity to Indian masses by the sole family/nepotistic dynasty – The Gandhis? Aren’t you erasing, white washing, mocking the sacrifices of millions of freedom fighters, mass heroes like Bhagat Singh, Chandrashekar Azad, Subash Chandra Bose etc that laid down their lives for the country?

Who gave you right to loot India for 60 years? Who gave you right to name all airports, ports after your nepotistic family? Is India your personal property?

Who gave you right to donate India’s land coco Islands etc to other nations without seeking Indian masses permission? Is India’s land your personal property?

Who gave you right to declare muslims as minority when Parsis, Jains, Jews, Buddhists, homosexuals, transgenders are actual minority and muslims the second largest majority?

*Who gave you right to tax hindu temples and shrines and use the money for government and expenditure for all religion masses, but exempt tax on muslim and Christian shrines in name of appeasement? Are you punishing hindu faith believers for being hindus?*

Who gave you right to segregate common laws meant for all? You reformed Hindu law and don’t touch other religion’s law?

Who gave you right to allow muslims to practice polygamy etc but ban other faiths to do it, isn’t this sheer hypocrisy/ open bias towards one religion followers under the pretence of being secular party?

*Who gave you right to spend Indian tax payers money on madrassa religious education when you don’t pay same amount of funds to other religion followers education?*

*Who gave you right to fund haj subsidies, provide minority quota etc to them when you don’t provide same subsidies to other faiths to visit their shrine or provide minority quota to kashmiri pandits in JK or other 8 states where hindus are in a minority?*

Who gave you right to send/ use Indian navy frigate to lay wreath on sea burial of Edwina Mountbatten by her love interest Nehru in his personal capacity at British’s South Coast? Is Indian Navy machinery, your family members personal property?

Who gave you right to provide secret/safe passage to criminal Warren Anderson, Union Carbide CEO who was charged with manslaughter by Indian court and put in custody?

Who gave you right to flee a person from custody who was responsible for blinding and deaths of lakhs of people in Bhopal gas tradegy? Whose generation after generation still suffer deformity and yet received no compensation from them. Wasn’t that betrayal and criminal on your part to India?

Who gave you right to mock 26/11 tragedy, strikes at border etc from the likes of Digvijay Singh, Sanjay Nirupam etc?

When Dynasty family can answer all these questions, they can bother questioning others.

“Honest Indian should Question via RTA to GOI”